बदायूं में ट्रक और रोडवेज बसों के ड्राइवरों ने हड़ताल करके बसों का चक्का किया जाम

ड्राइवरों की हड़ताल के चलते सड़क से लेकर पेट्रोल पंप तक प्रभावित हुए। इसके साथ ही मालवाहक वाहनों के न चलने से सामान एक स्थान से दूसरे स्थान पर नहीं पहुंच पाया-यात्री रहे परेशान

बदायूं -हिट एंड रन को लेकर बनाए गए नए कानून के विरोध में चल रही बस, ट्रक, ऑटो, टैंकर सहित अन्य कमर्शियल वाहन के ड्राइवरों की हड़ताल का असर बदायूं में भी दिखाई दिया। बस, ऑटो और ट्रक ड्राइवर ने  केंद्र सरकार के नए आदेश को लेकर हड़ताल की। इसके चलते शहर में चलने वाली  लो फ्लोर और सैकड़ों मिनी बसों के पहिए थम गए। ऐसे में यात्रियों को नए साल के पहले दिन ही आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ा। पेट्रोल-डीजल का परिवहन करने वाले टैंकरों के ड्राइवर भी हड़ताल में शामिल रहे।

केंद्र सरकार के नए हिट एंड रन कानून के खिलाफ बस और ट्रक चालकों में खासा आक्रोश है। इस कानून के तहत पांच लाख रुपए जुर्माना और दस साल की सजा का प्रावधान किया गया है। इसके खिलाफ यूपी के रोडवेज बस ड्राइवरों ने मोर्चा खोल दिया है। बस चालकों ने सरकार के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी की।

बस चालक ने कहा कि जब तक सरकार काले कानून को वापस नहीं लेती तब तक बस नहीं चलायेंगे। सभी चालकों ने बस चलाने से इनकार कर दिया। केंद्र सरकार के नए परिवहन नियमों का ट्रांसपोर्ट कारोबारियों ने भी विरोध किया है। बदायूं ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के बैनर तले कारोबारी विरोध कर रहे हैं।

ये कानून सिर्फ बस या ट्रक चालकों के लिए नही ये काला कानून सभी ड्राइविंग लाइसेंस धारको के लिए चाहे वो बाइक, कार, टैम्पो ही क्यों न चलाता हो: ओमकार सिंह

जिला बस ऑपरेटर यूनियन अध्यक्ष ओमकार सिंह के नेतृत्व में हिट एण्ड रन कानून को लेकर धरना प्रदर्शन

बदायूँ: देशभर सहित जनपद में भी अब ड्राइवरों के धरना प्रदर्शन का असर दिखने लगा। ड्राइवरों के समर्थन में उतरी बस ऑपरेटर यूनियन बस ऑपरेटर यूनियन अध्यक्ष ओमकार सिंह के नेतृत्व में आज दिनांक 01 जनवरी 2024 को प्राइवेट बसों के ड्राइवरों के समर्थन में बस मालिक एवं यूनियन पदाधिकारी भी आ गए इस अवसर पर अध्यक्ष ओमकार सिंह ने कहा देशभर में मोटर ऑपरेटर, ट्रांसपोर्ट यूनियन द्वारा बुलाया गया धरना है हमारी मांग जब तक पूरी नही की जाएगी तब तक हड़ताल जारी रहेगी। सरकार द्वारा कानून में किए गए संशोधन के तहत सड़क हादसे के बाद मौके से भागने वाले चालक को 10 साल की सजा और 8 लाख रुपये के जुर्माने का प्रविधान किया जा रहा है। हमारी मांग है कि सरकार इस काले कानून को वापस ले। एक्सीडेंट की घटना ड्रायवर कभी भी जानबूझकर नहीं करते हैं। वाहन चालक के विरूद्ध एक्सीडेन्ट करने पर कानून मे किये जा रहे संशोधन को निरस्त किया जाए। उन्होंने कहा दुर्घटना के बाद चालक मौके से नहीं भागे तो जमा हुई भीड़ मारपीट करने के साथ कई बार जान तक ले लेती है। वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा जो जुर्माना और सजा का प्राविधान किया है उसमे गरीब ड्राइवर कहां से राशि जमा भरेंगे और दस साल की सजा होने पर परिवार का भरण पोषण कैसे होगा। और सबसे बड़ी बात इस काले कानून की ये है कि ये कानून सिर्फ बस या ट्रक चालकों के लिए नही ये काला कानून सभी ड्राइविंग लाइसेंस धारकों के लिए चाहे वो बाइक, कार, टैम्पो ही क्यों न चलाता हो सबको एकजुट होकर इस काले कानून के खिलाफ लड़ना होगा इस अवसर पर बस मालिक यूनियन उपाध्यक्ष अनिल रस्तोगी, पप्पू फारूकी, महासचिव मुस्तहिद खान, छोटे लाल जी, भरत गुप्ता, राजेश जैन, अखलेश गुप्ता, साजिद अंसारी, सब्बीर, सरताज, अनवर, एवं बस स्टाफ चांद मियां, रतीराम, हरीओम, शोबित, अवनीश आदि सैकड़ों पदाधिकारी, बस मालिक एवं स्टाफ मौजूद रहे

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *